Shyamsunder Panchavati

Shyamsunder Panchavati
Linkedin now a follower of Shyam on twitter

Thursday, December 2, 2010

मील का एक पत्थर हूँ मैं,

Feelings of a Milestone


People put everything they have and beyond to achieve a milestone,but immediately after, forget all about it and proceed in the pursuit of the next one.


How does the Milestone feel about it, hero one moment, and totally forgotten the next,Please read my humble,feeble,but creative attempt at Hindi Poetry and express yourself.



Capacity Building & Development


मील का एक पत्थर हूँ मैं,
मुझ तक पोहंच्ना,हर कोई चाहता हैं क्यो 
पोहंच कर,हर कोई आगे जाता है क्यों 
 दोबारा नहीं कोई आता है क्यों 

मुझ तक पोहंचने की चाह,होती है सब में
कृषी और संकल्प,बस होतें है कुछ में  
पहुँच पाना मुझ तक आसन नहीं ,
दिन में दिखा देता हूँ , तारे नभ में .

मील का एक पत्थर हूँ मैं,
मुझ तक पोहंच्ना,हर कोई चाहता हैं क्यो 

मुझे पाने की चाह में, अपने  पराये  हो जाते हैं,
रात दिन में अंतर नहीं होता,
अभ्यास पुनर अभ्यास ही,परम लक्ष्य,हो जाते हैं .
स्वर्ग पाने की आस में,यम यातना के आदी  हो जाते हैं.

मील का एक पत्थर हूँ मैं,
मुझ तक पोहंच्ना,हर कोई चाहता हैं क्यो 

जब मैं दूर से नज़र आता हूँ , मन में  एक आस जगाता हूँ .
प्रण में दृढ़ता,प्रयत्न में नव उतेज्ना,और आशा की चिंगारी जगाता हूँ.
हर कदम एक कारनामा, और  हर कारनामा
एक अफसाना बन जाता है.
असंभव से संभव का सफ़र,
दिक्कतों से भरा, पर सुहाना प्रतीत  है.  

मील का एक पत्थर हूँ मैं,
मुझ तक पोहंच्ना,हर कोई चाहता हैं क्यो 

और जब मुझ तक पोहचता ही कोई.
संतोश और सारताक्ता  का आभास दिल्लाता हू मैं.
ख़ुशी और प्रेम से आलिंगन करते हैं मेरा,
मानो जैसे माता पिता और दैव से भी उच्च स्थान हो मेरा.

मील का एक पत्थर हूँ मैं,
मुझ तक पोहंच्ना,हर कोई चाहता हैं क्यो 

लेकिन अगले हि पल...... 

मुझे भूल कर लोग बढ्ते हैं अगले कि और,
क्या यही हैं आज, जिंदगी के तौर,
क्यों कोई दुबारा आता नाही ,
क्या मैं किसी को भाता नाही 

मील का एक पत्थर हूँ मैं,
क्यों कोई दुबारा आता नाही ,
क्या मैं किसी को भाता नाही 

लेकिन  फिर भी ...
 रंजिश हि सही  दिल को बहला ने के लिये,
इक बार फिर पास आ जाओ, फिर दूर जाने के लिये.
वक़्त गर थम जाता यही,धुंधली यादें तजा करने के लिए,
बस याद कर लेते एक बार हमें,फिर भूल जाने के लिए 

रंजिश ही सही ,दिल को बहला ने के लिए  

मील का एक पत्थर  हूँ मैं.
दोबारा क्यों कोई आता नहीं,
क्या किसीको, मैं भाता नहीं









Hum na rahe to kya 08-19




दर्द हल्का सा है,सांस भारी हैं, जिए जाने की रस्म जारी हैं.

हे मौत मुझ से पर्दा ना कर, अब तेरे आने की बारी हैं 



ना गिला मौत से हैं, ना ज़िन्दगी से,ना ही बेरुखी हैं,खुदा  के बन्दे से 

बस रब का बुलावा है,सब छोड़ जाने की तयारी हैं


  





  




  



No comments:

Post a Comment